प्रश्न नारद का

पर हित सरस धर्म नहीं भाई ।पर पीड़ा सम ही अधमाई ।। दोस्तों इस लाइन का अर्थ है ।दूसरों की भलाई करने से बड़ा कोई धर्म नहीं है और दूसरों को पीड़ा पहुंचाने से बड़ा कोई अधर्म नहीँ है यानी अपने जीवन को जीने के लिए किसी को कष्ट नहीं देना चाहिए निस्वार्थ भाव से प्राणी और समाज के हितार्थ कार्य करना चाहिए दोस्तों आज मैं आपको सबको नारद जी का एक प्रश्न बताते हैं जो अपने पिता ब्रह्मा जी से करते नारद जी एकबार भ्रमण करते करते पाताल लोक…

Read More

पवित्र पावन रक्षाबंधन

दोस्तों भाई बहन के प्रेम और सौहार्द्र का प्रतीक रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें दोस्तों आज के पोस्ट मे कुछ बातें रक्षाबंधन की सावन की रिमझिम फुहार के बीच खुशियों का पर्व रक्षाबंधन हर्ष उल्लास की छटा विखेरने आ गया दोस्तों हमें इस पर्व का बेसब्री से इंतजार रहता रहता है सुबह से ही घर में मिठे पकवानों की खुशबू फैल जाती है दोस्तों मानव जीवन रिश्तों का मेला है लेकिन भाई बहन का रिश्ता अतुल्य होता है इस एक रिश्ते कभी प्रेम तो कभी शरारत कभी शिकायत तो कभी सुरक्षा…

Read More